Skip to main content

घर में आईने का स्थान - वास्तु के हिसाब से आईने का स्थान

क्या आपने अपने शयन कक्ष में आईने के स्थान पर ध्यान दिया है? घर में आईने का स्थान का महत्तव और वास्तु के हिसाब से आईने का स्थान क्या है

पलंग के बगल में आईने के संबंध में भ्रम 
पलंग के बगल में ड्रैसिंग टेबल रखने तथा शयनकक्ष में आईनों को लगाने के उपयुक्त स्थान को लेकर कई तरह के भ्रम प्रचलित हैं। इन भ्रांतियों को महा वास्तु के दृष्टिकोण से दूर किया जा सकता है।  

बैडरूम में किसी भी चीज जैसे कि आईने, ड्रैसिंग टेबल आदि को रखने का सही स्थान घर के विभिन्न हिस्सों के संतुलन के आकलन के बाद ही तय किया जा सकता है। 

शयनकक्ष में मौजूद आईना वहां सोने वाले लोगों के अवचेतन मस्तिष्क को प्रभावित करता है। किसी कमरे में आईने का स्थान तथा ऊर्जा का संतुलन वहां रहने वाले लोगों के जीवन पर सकारात्मक या नकारात्मक असर डाल सकता है। शयनकक्ष में भी ऐसा ही होता है।

आईने पर पलंग का प्रतिबिम्ब
पहले माना जाता था कि आईने या ड्रैसिंग टेबल में पलंग का प्रतिबिम्ब पडऩा बैडरूम में रहने वालों के स्वास्थ्य पर खराब प्रभाव डालता है। हालांकि, किसी भी आईने का असर इस बात पर निर्भर करता है कि उसे किस दिशा में लगाया गया है। साथ ही कमरे के संबंधित हिस्से में मौजूद विभिन्न तत्वों के प्रभाव का भी इसमें योगदान होता है।

कौन-सी दिशाओं में आईना लगाना हानिकारक है
दक्षिण-पूर्व दिशा : 
बैडरूम की दक्षिण-पूर्व दिशा में लगाया आईना वहां सोने वाले लोगों की सेहत पर विपरीत असर करता है। यह दिशा अग्नि का क्षेत्र है और यहां आईना अर्थात जल तत्व रखने से असंतुलन पैदा होता है। इस स्थिति को दुरुस्त करने के लिए वास्तु उपाय एवं संतुलन विधियां अपनाई जा सकती हैं।

दक्षिण-दक्षिण पश्चिम दिशा: 
इस दिशा में रखे ड्रैसिंग टेबल का भी नकारात्मक प्रभाव होता है क्योंकि यह निपटान का क्षेत्र है। इस बैडरूम को इस्तेमाल करने वालों को खूब बर्बादी तथा बांझपन का सामना भी करना पड़ सकता है। ऐसा हो तो आईने या ड्रैसिंग टेबल की दिशा बदलने का सुझाव दिया जाता है। वहां पर रंगों से संतुलन पैदा करके सौहार्द पैदा करने के लिए पौधे आदि का प्रयोग किया जा सकता है। 

दक्षिण-पश्चिम दिशा: 

यहां ड्रैसिंग टेबल रखने से बैडरूम में रहने वालों के आपसी रिश्तों में कड़वाहट पैदा होती है। दम्पत्ति एक-दूसरे से ज्यादा अपेक्षाएं रखने लगते हैं और उनमें अक्सर झगड़े तथा अनबन रहने लगती है। इस वजह से बैडरूम में दक्षिण-पश्चिम दिशा भी आईनों के लिए उपयुक्त नहीं है। 

Popular posts from this blog

शीतला माता पूजा विधि - शीतला अष्टमी व्रत विधि

शीतला अष्टमी व्रत चैत्र कृष्णा पक्ष अष्टमी को मनाया जाता हे । निचे विस्तृत रूप में शीतला अष्टमी व्रत विधि पड़ सकता हे । 
सप्तमी के दिन  अष्टमी से पहले दिन यानी सप्तमी तिथि को शाम को सूर्य ढलने के पश्चात तेल और गुड़ में खाने-पीने की वस्तुएं मीठी रोटी, मीठे चावल, गुलगुले, बेसन एवं आलू आदि की नमकीन पूरियां तैयार की जाती हैं। 
अष्टमी के दिन  मां शीतला को अष्टमी के दिन मंदिर में जाकर गाय के कच्चे दूध की लस्सी के साथ सभी चीजों का भोग लगाया जाता है। मीठी रोटी के साथ दही और मक्खन, कच्चा दूध, भिगोए हुए काले चने, मूंग और मोठ आदि प्रसाद रूप में चढ़ाने की परम्परा है।  माता शीतला को भोग लगाने के बाद मंदिर में बनी विभिन्न पिंडियों पर भी कच्ची लस्सी चढ़ाई जाती है। 
लस्सी शिव को चढ़ाना चाहिये  भगवान शिव के मंदिर में शिवलिंग पर कच्ची लस्सी चढ़ाकर मां से परिवार के मंगल की कामना के लिए प्रार्थना की जाती है। 
शीतला अष्टमी व्रत और कंचक पूजन 
वैसे तो हिन्दुओं के प्रत्येक धार्मिक आयोजन पर कंजक पूजन की परम्परा है परंतु नवरात्रों में इसका विशेष महत्व है। चैत्र मास की शीतला अष्टमी पर मां के पूजन के साथ …

आज अप्रैल १९ , २०१७ का तिथि - राशि - शुभ मुहूर्त

हिन्दूपंचांगऔरकैलेंडरकेहिसाबसेआजबुधवार, अप्रैल१९, २०१७कातिथिकृष्णापक्षअष्टमी तिथिहे। वैशखमहीनाकृष्णापक्षअष्टमीतिथि - येकैलेंडरसिर्फउत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, राजस्थान, दिल्ली, हरयाणा, पंजाब, हिमाचलप्रदेश, जम्मूएंडकश्मीर, उत्तराखंड, बिहार, औरझारखण्डमेंलागूहे।
तिथि -अप्रैल१९को११:३५ pmतककृष्णापक्षअष्टमी तिथिहे | उसकेबादकृष्णापक्षनवमी तिथिहे।येरहेगीअप्रैल२० को पूरे दिन और अप्रैल २१ के १२:१० am तक.
शुभमुहूर्त - अप्रैल१९, २०१७ का पूरा दिन शुभ हे।  
राशि -१:०७ am तक धनु राशि हे उसके बाद मकर राशि हे। 
नक्षत्रा - उत्तराषाढ़ा अप्रैल१९ को ८:२३ pm तक।उसकेबादश्रवण नक्षत्र अप्रैल२० ९:३९ pm तक।
व्रत -कालाष्टमी।  बुधाष्टमी पर्व।
योग -सिद्धा (अच्छा) १:५२ pm तक।  . उसकेबादसाध्य (अच्छा) 
करना -बवा (अच्छा) २:३७ am तक।उसकेबाद