सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं


हनुमान जी को तिल के तेल अर्पित करते समय का मंत्र

हनुमान जी को तिल के तेल अर्पित करते समय इस मंत्र का पद करें। 

सिन्दूरं शोभनं रक्तं सौभाग्यसुखवर्द्धनम्।
शुभदं चैव माङ्गल्यं सिन्दूरं प्रतिगृह्यताम्।।

हनुमान जी को तिल के तेल में सिंदूर मिलाकर चोला चढ़ाएं। शनि दोष निवारण केलिया एक अच्छा उपाय हे