सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

February, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

क्लेश दूर करने का गणेश मंत्र

अगर आप तुरंत जीवन से क्लेश दूर करना चाहते हैं तो इसके लिए बुधवार के दिन स्नान करने के बाद साफ-सुथरे कपड़े पहन कर भगवान गणेश जी की पूजा कीजिए और उनको शुद्ध घी तथा गुड़ का भोग अर्पित कीजिए। थोड़ी देर पश्चात घी तथा गुड़ को गाय को खिला दीजिए। इस के बाद निचे दिए मंत्र को १०८ बार जप करें।

क्लेश दूर करने का गणेश मंत्र

ॐ ग्लौम गौरी पुत्र, वक्रतुंड, गणपति गुरू गणेश। 
ग्लौम गणपति, ऋद्धि पति, सिद्धि पति। करों दूर क्लेश।।

तुलसी के पत्ते तोड़ने से समय इन मंत्रों का जाप करें

हिन्दू स्त्रोंमेंकुछमंत्रबताएगएहैंजोतुलसीकेपत्तेतोड़तेसमयबोलनेचाहिए।

तुलसी के पत्ते तोड़ने से समय के मंत्र

ॐ मातस्तुलसि गोविन्द हृदयानन्द कारिणी,
नारायणस्य पूजार्थं चिनोमि त्वां नमोस्तुते ।।
महाप्रसाद जननी, सर्व सौभाग्यवर्धिनी,
आधि व्याधि हरा नित्यं, तुलसी त्वं नमोस्तुते।।
इस मंत्र का जप करने से सुख-समृद्धि और धन-संपदाव तुलसी मैय्या का आशीर्वाद बना रहता है।

हनुमान बाहुक पाठ हिंदी

हनुमान बाहुक पाठ निरंतरजापसेव्यक्तिकीहरतरहकीपरेशानीसेछुटकारापायाजासकताहै। हनुमान बाहुक पाठ हिंदीबालसमयरविभक्षिलियो, तबतीनहुंलोकभयोअंधियारो। ताहिसोंत्रासभयोजगको, यहसंकटकाहुसोंजातनटारो।1।
देवनआनिकरीविनतीतब, छांड़िदियोरविकष्टनिवारो।
कोनहिंजानतहैजगमें, कपिसंकटमोचननामतिहारो।2।
बालिकीत्रासकपीसबसैगिरि, जातमहाप्रभुपंथनिहारौ।
चौंकिमहामुनिशापदियोतब, चाहिएकौनविचारविचारो।3।
कैद्विजरूपलिवायमहाप्रभु, सोतुमदासकेशोकनिवारो।
कोनहिंजानतहैजगमें, कपिसंकटमोचननामतिहारो।4।
अंगदकेसंगलेनगयेसिय, खोजकपीसयेबैनउचारो।

शुक्रवार महालक्ष्मी मंत्र वैभव और यश पाने के लिए

वैभवऔरयशपानेकेलिए शुक्रवार को इन महालक्ष्मी मंत्रों का जप 108 बार जप करना चाहिए।  


शामकोस्नानकरके हरा रंगकेकपड़ेपहनकरसफ़ेद आसनपर बैट कर इस मंत्र का जप करें। 
हाथमेंचावलऔरलालफूललेकरइस महालक्ष्मी मंत्रकाजापकरें:
शुक्रवार महालक्ष्मी मंत्र महालक्ष्मीचविद्महे,
विष्णुपत्नीचधीमहि, तन्नोलक्ष्मी: प्रचोदयात्।

सूर्य देव को गंगाजल समर्पण करते समय इस मंत्र का जप करे

सूर्य देव को गंगाजल समर्पण करते समय इस शक्तिशालीमंत्र का  जप करे जिससे आप की हर समस्याकासमाधान होगा।  

ॐसूर्यदेवंनमस्तेस्तुगृहाणंकरूणाकरं |
अर्घ्यंचफ़लंसंयुक्तगन्धमाल्याक्षतैयुतम् ||
इस मंत्र का जप करते समय आप को लाल वस्त्र पहना चाहिए